Current और Voltage में क्या अंतर है | Current or voltage me kya antar hai?

Current और Voltage में क्या अंतर क्या है?

Electricity के टर्म में दो ऐसे शब्द है जो हमेशा ही सब के दिमाग में उलझाने पैदा करती है वो है Current और Voltage. ज्यादातर लोग इन दोनों शब्दों का एक ही अर्थ समझ बैठते है परन्तु ये दोनों ही बिलकुल ही अलग-अलग टर्म्स है। आज हमलोग इस टॉपिक में Current और Voltage क्या है तथा इन दोनों में अंतर क्या है, के बारे में विश्लेषण करने जा रहे है। 

Current (विधुत धारा) क्या है:-

जब किसी चालक में इलेक्ट्रान एक जगह से दूसरे जगह मूव होने लगता है तब इलेक्ट्रिक चार्ज उत्पन्न होता है और इसी Electric Charge के एक निश्चित समय में बहाव की मात्रा को Current कहा जाता है जिसे Ampere Meter (Ammeter) से मापा जाता है।

करंट को हमेशा लोड के सीरीज में ही Ampere Meter को लगाकर मापा जाता है।
Current का SI मात्रक Ampere होता है।
करंट को I से Denote किया जाता है।
करंट ज्ञात करने का सूत्र- I= V/R

Voltage (विधुत दाब) क्या है:-

जितनी Electric Pressure के साथ किसी चालक के माध्यम Current का बहाव हो रहा होता है उस प्रेशर को ही Voltage या विधुत दाब कहा जाता है। Electric Pressure को Voltmeter से मापा जाता है।

वोल्टेज को हमेशा लोड के समानान्तर ही Volt Meter को लगाकर मापा जाता है।
विधुत दाब का SI मात्रक Volt होता है।
वोल्टेज को V से प्रदर्शित किया जाता है।
वोल्टेज ज्ञात करने का सूत्र- V= I*R

Current और Voltage में क्या अंतर क्या है:-

Voltage तथा Current को आसानी से समझने के लिए हमने ऊपर दो Water Tank के बीच Water Flow  की एक पिक्चर बनाई है जिसकी मदद से इस कांसेप्ट को क्लियर करने का प्रयास करेंगे।

इस पिक्चर में दिखाया गया है की इसमें दो Tank है, Tank A और Tank B जिसको एक पाइप की मदद से एक दुसरे से कनेक्ट कर दिया गया है और पाइप के बीच में एक रेगुलेटर लगा दिया गया है।

Tank A को देखे तो इसमें ज्यादा पानी है और Tank B में कम पानी है अब हो ये रहा है की जब रेगुलेटर को घुमाया जा रहा है तो Tank A से B की ओर एक प्रेशर के साथ पानी का बहाव हो रहा है यहाँ तक की रेगुलेटर को घुमाकर जितनी ज्यादा पाइप को ओपन किया जा रहा है उतनी ज्यादा तेजी से पानी का बहाव हो रहा है और जब कम ओपन किये जा रहा है तो पानी का बहाव भी कम हो रहा है। परन्तु A से B की ओर पानी का बहाव तब तक तक हो रहा है जब तक दोनों Tank में पानी का Level बराबर नहीं हो जाता है।

इलेक्ट्रिक चार्ज भी हमेशा इसी तरह Higher Potential से Lower Potential की ओर Flow करता है जिसे Potential Difference कहा जाता है।

अब इस पूरी प्रक्रिया को इलेक्ट्रिक टर्म में समझने का प्रयास करें तो टैंक की पानी को हमलोग Electric Charge मान लेते है, परन्तु Tank A में ज्यादा चार्ज है और Tank B में कम, अब जैसे ही रेगुलेटर को घुमाया जाता है तो Tank A से B की ओर चार्ज का दबाब (Pressure) बनता है और चार्ज Tank B में जाने लगता है इसी दबाब को Electro Motive Force कहा जाता है जिसे Short में EMF कहते है।

अब जितनी प्रेशर के साथ गति करते हुए Tank A से Tank B की ओर इलेक्ट्रिक चार्ज फ्लो हो रही है यही प्रेशर या EMF ही Voltage या विधुत दाब कहलाता है, और जितनी मात्रा में Tank A से Tank B की ओर इलेक्ट्रिक चार्ज जा रही है वह Current अथवा विधुत धारा कहलाता है, और Tank A और B के बीच में लगा रेगुलेटर एक रेजिस्टेंस की तरह कार्य कर रहा है जिसको बढ़ने या घटाने पर करंट फ्लो भी कम और ज्यादा हो जा रहा है।

Resistance (प्रतिरोध) क्या है:-

किसी भी चालक (Conductor) का वह गुण जो किसी विधुत परिपथ में Current के बहाव का विरोध करता है उसे प्रतिरोध कहते हैं। 
रेजिस्टेंस का SI मात्रक Ohm होता है।
रेजिस्टेंस को R से प्रदर्शित किया जाता है।
रेजिस्टेंस ज्ञात करने का सूत्र- R=V/I

इन्हें भी देखें:→

फ्रेंड्स हमें उम्मीद है कि इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको करंट तथा वोल्टेज के बारे में अंतर पता चल गया होगा। फिर भी यदि इससे संबंधित कोई समस्या या सुझाव हो तो हमें Comment के माध्यम से अपनी राय जरूर भेजें। धन्यवाद !