ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है | ऑपरेटिंग सिस्टम कितने प्रकार के होते है | Operating System Kitne Prakar Ke Hote Hai?

What Is Operating System In Hindi?

operating system in hindi
दोस्तों आज के इस कंप्यूटर, स्मार्टफोन के ज़माने में हम सभी को हर रोज Android, Windows, Linux, MacOS इत्यादि के बारे में सुनने को मिलता है पर क्या आपने कभी सोचा है कि ये सभी है क्या, कंप्यूटर स्मार्टफोन से इसका क्या सम्बन्ध है, इसका काम क्या है । अगर ऐसे ही सवाल आपके मन में है तो आप सही जगह है, आज हमलोग इस आर्टिकल में इसी टॉपिक पर चर्चा करने जा रहे है, तो चलिए सुरु करते है:-

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है?

Operating System एक सिस्टम सॉफ्टवेयर है जिसे संक्षेप में OS कहते है। यह कंप्यूटर सिस्टम में Use किया जानेवाला एक ऐसा सॉफ्टवेयर होता है जो यूजर और कंप्यूटर हार्डवेयर बीच इंटरफ़ेस बनाने का कार्य करता है यानि यूजर और कंप्यूटर के बीच तालमेल बनाने का कार्य करता है। यूजर के निर्देश को कंप्यूटर को समझने का कार्य करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम के बिना कंप्यूटर पर कार्य कर पाना मुश्किल है। ऑपरेटिंग सिस्टम ही कंप्यूटर को यूजर फ्रेंडली बनाने का कार्य करता है।कंप्यूटर में उपयोग किये जानेवाला ऑपरेटिंग सिस्टम है जैसे- Dos, Windows, Unix, Linux, MacOS, Ubuntu ये सभी ऑपरेटिंग सिस्टम के उदहारण है इसके आलावा Android भी एक प्रचलित ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसका उपयोग Smartfone में किया जाता है।

operating system structure

कंप्यूटर में Windows Operating System बहुत ही प्रचलित है जिसे Microsoft Corporation के द्वारा बनाया जाता है विंडोज एक Graphical User Interface (GUI) OS है जिसमे Text के साथ साथ Colorful Graphic भी दिखाया जाता है जो ऑपरेटिंग सिस्टम के इंटरफ़ेस को और भी Attractive & Easy To Use बनता है विंडोज के आलावा और भी बहुत सारे OS Use किये जाते है जैसे- Linux, Unix, Mac, Ubuntu Etc. पर ये सभी उतने प्रचलित नहीं है।

👉कंप्यूटर में Windows Operating System इनस्टॉल कैसे करें, जानने के लिए यहाँ क्लिक करें....

Function Of Operating System In Hindi (ऑपरेटिंग सिस्टम के महत्वपूर्ण कार्य):-

  • कंप्यूटर को स्टार्ट, रीस्टार्ट तथा बंद करना
  • इनपुट आउटपुट मैनेजमेंट करना
  • मेमोरी मैनेजमेंट करना
  • प्रोसेसिंग मैनेजमेंट करना
  • हार्डवेयर मैनेजमेंट करना
  • फाइल मैनेजमेंट करना
  • सिस्टम परफॉरमेंस को बेहतर बनाये रखना
  • सिक्योरिटी मैनेजमेंट करना
  • एरर रिपोर्टिंग करना तथा ट्रबलशूटिंग करना
  • सॉफ्टवेयर मैनेजमेंट करना
  • प्रिंटिंग मैनेजमेंट करना

Types Of Operating System In Hindi (ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार) :-

कार्य के अनुसार अलग-अलग प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम को बनाया गया है जिसे कोई भी आर्गेनाइजेशन या कोई यूजर अपनी जरुरत के अनुसार उपयोग में लाते है जैसे -

Single User Single Tasking Operating System:-

जैसा की इस OS के नाम से हे पता चलता है की सिंगल यूजर सिंगल टास्क यानि यह ऑपरेटिंग सिस्टम सिंगल यूजर के लिए बेहतर कार्य करने के लिए बनाया गया है जिसपर एक समय में एक व्यक्ति एक साथ एक ही प्रोग्राम पर कार्य कर सकता है। इस प्रकार के OS का इस्तेमाल सुरुवाती दौर में यानि जब OS का विकाश हुआ था उस दोरान किया जाता था आजकल मल्टीटास्किंग OS ज्यादातर उपयोग में लाये जाते है।

Single User Single Tasking Operating System

Single User Multitasking Operating System:-

इस OS के भी नाम से पता चलता है की यह ऑपरेटिंग सिस्टम सिंगल यूजर को कार्य करने के लिए बनाया गया है पर इसपर एक व्यक्ति एक समय में एक साथ कई प्रोग्राम को रन करवा सकता है तथा अलग अलग कार्यों को एक साथ कर सकता है. इसी प्रकार OS एक सामान्य कंप्यूटर में आज पाया जाता है. Windows and MacOS इस प्रकार के OS की श्रेणी में आते है।

Single User Multitasking Operating System

Multi User Multitasking Operating System:-

ऐसे ऑपरेटिंग सिस्टम पर कई यूजर एक साथ काम कर सकते है साथ ही अलग अलग सॉफ्टवेयर भी रन करावा सकते है। इस प्रकार के मल्टी यूजर OS को कंप्यूटर नेटवर्क में इस्तेमाल किये जाते है क्योंकि नेटवर्क में बहुत सारे यूजर एक साथ कार्य करते है जिसके लिए Multi User OS की जरुरत होती है। Unix and Windows NT इस प्रकार के OS के उदहारण है।

Multi User Multitasking Operating System:-

Batch Processing Operating System:-

बैच प्रोसेसिंग OS में डाटा और प्रोग्रोमो को कार्य करने के लिए बंडल के रूप में execute करने की जरुरत होती है इस प्रकार के OS उस स्तिथि में काफी अच्छे होते है जब बड़ी मात्रा में डाटा पर काम किया जाना होता है इस प्रकार के OS में ऑटो प्रोसेसिंग की जाती है।

Batch Processing Operating System

Real Time Operating System:-

यह ऑपरेटिंग सिस्टम एक ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे ऐसे जगह पर इस्तेमाल किया जाता है जहाँ एक निश्चित समय में काफी ज्यादा व् महत्वपूर्ण गणनाएं करना होता है यानि वैसे कार्य जहा टाइम एंड डाटा दोनों इम्पोर्टेन्ट हो ऐसे क्षेत्र में उपयोग किया जानेवाला कंप्यूटर का ऑपरेटिंग सिस्टम रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम होता है। 

Real Time Operating System

Categories Of Operating System (ऑपरेटिंग सिस्टम की श्रेणी):-

Stand Alone Operating System:-

यह ऑपरेटिंग सिस्टम वैसे OS होते है जो डिवाइस तथा कंपनी डिपेंडेंट नहीं होते है यह OS एक डिवाइस इंडिपेंडेंट OS होते है क्योंकि इस प्रकार के OS को किसी भी डिवाइस में स्थापित किया जा सकता है जो डेस्कटॉप, लैपटॉप इत्यादि कंप्यूटिंग डिवाइस पर काम करता है Microsoft Windows इसी प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर है।

Server Operating System: -

इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम को नेटवर्क में सपोर्ट करने के लिए डिज़ाइन किये गए होते है .सर्वर OS मुख्य रूप से सर्वर पर कार्य करता है जिस सर्वर से बहुत सरे क्लाइंट नेटवर्क में जुड़े हो सकते है तथा सभी क्लाइंट सारे रिसोर्सेस सर्वर से प्राप्त करते है. सर्वर OS को इस प्रकार से डिज़ाइन किया गया होता है की यह सभी सर्वर सिस्टम को सपोर्ट कर सके. कुछ सर्वर OS के उदहारण है जैसे- Windows Server 2008, Unix Server, Solaris, Netware Etc.

Embedded Operating System:-

यह ऑपरेटिंग सिस्टम एक ऐसा ऑपरेटिंग सिस्टम होता है जिसे किसी खास डिवाइस के लिए बनाया गया होता है और यह OS डिवाइस मैन्युफैक्चरर कंपनी के द्वारा ही ROM में Load कर दिया जाता है जिसे हम अपनी इच्छानुसार बदल नहीं सकते है इस प्रकार के ऑपरेटिंग सिस्टम के उदहारण है Symbian, Windows Embedded CE, Embedded Linux जो कि मोबाइल फ़ोन, माइक्रोकंट्रोलर, राऊटर तथा रोबोट इत्यादि जैसे इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस में आते है।

इन्हें भी देखें:→

फ्रेंड्स यह आर्टिकल आपको कैसी लगी इसकी प्रतिक्रिया हमें कमेंट💬 के माध्यम से जरुर दें साथ ही अगर यदि यह आर्टिकल आपको पसंद आई हो तो अपने फ्रेंड सर्किल में अधिक से अधिक शेयर करें. Comtech In Hindi से जुड़े रहने के लिए....धन्यवाद!