Juice Jacking क्या है इससे कैसे बचें? What Is Juice Jacking In Hindi?

जूस जैकिंग क्या है, इससे कैसे बचें?

आज हम सभी लोग हमेशा Smartphone से जुड़े रहते है क्योंकि ये आज की एक विशेष जरुरत बन गई है और हम सभी के फ़ोन में बहुत सारे संवेदनशील Application तथा Data होते है। इन डाटा को सुरक्षित रखना हमारे लिए अति आवश्यक होता है क्योंकि इन डाटा में हमारे बैंकिंग इनफार्मेशन, हमारी निजी कोई जानकारी या कोई अन्य संवेदनशील डाटा हो सकती है जिसके लीक हो जाने से बहुत ही बड़ी मुसीबत खड़ी हो सकती है। 

ऐसे में इन सारी जानकारी को सुरक्षित रखना हमारी ही जिम्मेदारी होती है और सुरक्षित तभी रख सकते है जब हम अपने फ़ोन को सुरक्षित रखें। 
Juice jacking kya hai
हम सभी लोगों को पता है कि जमाना बदल गया है तो कार्य करने का तरीका भी बदल गया है आज के समय में ज्यादातर लोग अपने फ़ोन में ही बहुत सारी जरुरी इनफार्मेशन को रखते है साथ ही बहुत सारे इम्पोर्टेन्ट कार्य मोबाइल एप्लीकेशन के माध्यम से किया जा रहा है, इसलिए हैकर ने भी इनफार्मेशन चुराने का जरिया मोबाइल फ़ोन को ही बना लिया है।

आये दिन हम लोगों को Cyber Attack के बारे में सुनने को मिलता है और इसी प्रकार के Attack में से एक है Juice Jacking जिसमे एक अलग ही तरीके को अपनाकर हैकर पब्लिक की संवेदनशील डाटा को चुराने का प्रयास करता है।

Juice Jacking क्या है?

Juice Jacking एक तरह का Cyber Attack ही है जिसमे हैकर मोबाइल, टेबलेट अथवा अन्य कोई कम्प्यूटेशनल डिवाइस के  USB Charging Port के माध्यम से हमारी निजी जानकारी चुराने का प्रयास करता है।

हम सभी को पता है की हमारे मोबाइल, टेबलेट इत्यादि, गैजेट के यूएसबी पोर्ट में बहुत सारी पिने होती है जिसमे से कुछ पिने चार्जिंग की और कुछ पिने डाटा कम्युनिकेशन की होती है, ऐसे में इन्ही डाटा कम्युनिकेशन पिन का फायदा हैकर उठाते है। जूस जैकिंग में हैकर आपके गैजेट के चार्जिंग पोर्ट को ही टारगेट करते है और आपकी संवेदनशील डाटा चुराने का प्रयास करते है। ये वैसे स्थानों पर सफल हो पाते है जहाँ सार्वजनिक चार्जिंग की सुविधा उपलब्ध हो और वहाँ डायरेक्ट USB To USB Charging Point बने हो, आज इस तरह की सुविधा बहुत सारी पब्लिक प्लेस पर उपलब्ध होती है जैसे- कैफे, रेलवे स्टेशन, मेट्रो, बस स्टैंड, एयरपोर्ट आदि जगहों पर।

Juice Jacking कैसे होता है:-
Juice Jacking

अक्सर लोगों की ट्रेवलिंग के दोरान जब भी मोबाइल डिस्चार्ज हो जाता है तो वे अपने मोबाइल को चार्ज करने के लिए कोई एक चार्जिंग पॉइंट ढूंढने लगते है और यदि उन्हें कहीं चार्जिंग पॉइंट खाली दिखते है तो वे अपने मोबाइल को चार्जिंग में लगा देते है।
चार्जिंग पॉइंट दो तरह के हो सकते है एक तो जहाँ केवल AC Power Socket लगी हो और उसमे अपने मोबाइल के चार्जर को लगाकर अपनी मोबाइल चार्ज करना पड़ता हो और दूसरा वो जहाँ डायरेक्ट USB To USB Charging Point बने हो जिसमे डायरेक्ट USB Cable लगाकर मोबाइल चार्ज करने की सुविधा हो और समस्या भी इसी से उत्पन्न होती है क्योंकि चार्जर के माध्यम से आपके मोबाइल के साथ डाटा कम्युनिकेशन नहीं किया जा सकता परन्तु यदि डायरेक्ट USB To USB के माध्यम से डाटा कम्युनिकेशन किया जा सकता है क्योंकि इसमें चार्जिंग पिन के साथ-साथ डाटा की पिने भी एक दुसरे के संपर्क में होती है।

जूस जैकिंग में USB Charging Port के माध्यम से ही वारदात को अंजाम दिया जाता है। इसके लिए Public Place जैसे- Airport, Railway Station, Restaurant या कोई अन्य जगह में बने Mobile Charging Point को टारगेट किया जाता है क्योंकि ऐसे चार्जिंग पॉइंट पर AC Socket के साथ-साथ बहुत सारे USB Port होते है जिनमे सीधे ही USB Charging Cable को लगाकर मोबाइल चार्ज करने की सुविधा होते है।

और हम सभी जान ही रहे है कि Smartphone के चार्जिंग कनेक्टर के माध्यम से Charging तथा Data Transfer दोनों तरह के कार्य किये जाते है इसके लिए केवल User Permission की जरुरत होती है, इसी का फायदा उठाकर Hacker आपके मोबाइल को एक्सेस करने की कोशिश करता है। इसके लिए Hacker पहले से ही Charging Point में लगे मशीन के अंदर छेड़-छाड़ कर दिए होते है ताकि जब कोई Public अपने Mobile या Tablet इत्यादि को USB के माध्यम से चार्ज करने की कोशिश करे तो उसके डिवाइस में Malware Install कर दिया जा सके, ऐसा हो जाने के बाद आपके Device को आसानी से Access किया जा सकता है और आपकी निजी जानकारी चुराया जा सकता है। ऐसे में यदि Banking Security Key को चुराकर आपकी अकाउंट को एक्सेस कर ले तो आपका खाता खाली हो सकता है, इसके अलावा और भी आपकी प्राइवेट जानकारी चुराकर आपके साथ कई तरह की धोखा सकता है।

जूस जैकिंग कुछ और भी अलग-अलग तरीके से किया जा सकता है जैसे- आप कहीं ट्रेवल कर रहे हो और आपकी Smartphone की बैटरी डिस्चार्ज हो जाये और आपके बगल में ही बैठा कोई अंजान व्यक्ति अपनी Laptop या Power Bank से आपकी मोबाइल को चार्ज करने की अनुमति दे और उसने Cyber Attack की साजिश पहले से रची हो तो वहां भी जूस जैकिंग (Juice Jacking) किया जा सकता है।

इस तरह की बातों को सुनने के बाद सब के दिमाग में एक सवाल आता है कि जब तक हम अपने मोबाइल से Data Access की Permission नहीं देंगे तब तक हमारे मोबाइल को कोई और Access कैसे कर सकता है, तो ये बात बहुत हद तक सही है पर कभी किसी के साथ ऐसा भी तो हो सकता है कि Charging Point में लगाने के बाद Permission माँगा और उसने गलती से या नहीं पता रहने के कारण Permission दे दी तब तो सब कुछ हो सकता है या कोई ऐसी भी तकनीक का सहारा लिया जा रहा हो जिससे बिना परमिशन के ही Malware Attack किया जा सके और ज्यादातर होता भी यही है, जहाँ भी जूस जैकिंग की साजिस पहले से रची होती है वहाँ पहले से ही फेरबदल किया गया होता है जिससे बिना आपसे परमिशन मांगे ही आपके डिवाइस को डिटेक्ट कर लिया जाता है और हैकर द्वारा आपकी डिवाइस पर कण्ट्रोल बना लिया जाता है।

इसलिए इन सारी समस्याओं से बचने के लिए एक ही उपाय है अपनी सतर्कता क्योंकि आपके सतर्कता में ही आपकी भलाई है।

Juice Jacking से कैसे बचें:-

  • बाहर में कहीं भी मोबाइल, टेबलेट या कोई अन्य डिवाइस को चार्ज करने के लिए Direct USB Charging के बजाय AC Socket में अपनी चार्जर को लगाकर चार्ज करें।
  • किसी अनजान व्यक्ति के लैपटॉप या पावर बैंक का इस्तेमाल नहीं करें।
  • ओनली चार्जिंग वायर वाला USB Cable का इस्तेमाल करें।
  • वैसी परिस्थति हो जहाँ मज़बूरी में डायरेक्ट USB Port से चार्ज करना पड़े तो उसके साथ USB Data Blocker जिसे USB Condom भी कहा जाता है का इस्तेमाल करें।
  • जिसके डिवाइस में हमेशा ज्यादातर संवेदनशील डाटा और एप्लीकेशन मोजूद रहता हो वे एक अच्छी एंटीवायरस का भी इस्तेमाल करें।
इन्हें भी देखें:→
👉Cyber Security क्या है, जानने के लिए यहाँ क्लिक करें.....

फ्रेंड्स हमने इस आर्टिकल के माध्यम से आप सभी को Juice Jacking के बारे में इनफार्मेशन देकर अवेयर करने का प्रयास किया है। हमें उम्मीद है कि इस टॉपिक को पढ़कर आपको जरूर कुछ जानने को मिला होगा तथा यह आर्टिकल आपको कैसी लगी इसके बारे में Feedback कमेंट के माध्यम से जरूर दें। अगर यदि यह आर्टिकल आपको पसंद आई हो तो औरों के साथ Share करें। धन्यवाद!