Computer Memory in hindi | Computer Memory kya hai | कंप्यूटर मेमोरी क्या है ?

What Is Computer Memory In Hindi:-


जिस प्रकार मनुष्य को कार्य करने के लिए अपनी स्मृति में बहुत सारी बातों को याद रखना पड़ता है ठीक उसी प्रकार कंप्यूटर को कार्य करने के लिए भी बहुत सारी डाटा, प्रोग्राम व इंस्ट्रक्शन अपनी Memory में Save रखनी पड़ती है ताकि किसी भी प्रकार के कार्य के दौरन CPU के द्वारा Access किया जानेवाला Data आसानी से मिल सके और कार्य पूरी हो सके। कंप्यूटर के जिस कंपोनेंट में प्रोग्राम,डाटा व इंस्ट्रक्शन स्टोर होती है उसे कंप्यूटर की मेमोरी कही जाती है, कंप्यूटर की मेमोरी में यह डाटा Binary Digit (0 और 1) के फॉर्म में स्टोर होती है और जब वह डाटा हमारे सामने प्रदर्शित होता है तो वह हमारी Language में होती है जिससे हम उसे समझ पाते है।

कंप्यूटर की मेमोरी को दो भागों में वर्गीकृत किया गया है:-

1.Primary Memory
2.Secondary Memory

1.Primary Memory:-

RAM
प्राइमरी मेमोरी कंप्यूटर की मुख्य मेमोरी होती है जिसको कंप्यूटर की CPU डायरेक्ट एक्सेस करता है यानि Working Condition में सीपीयू को जब किसी Data की जरुरत होती है तो वह सबसे पहले उस Data को प्राइमरी मेमोरी(RAM ) में ढूंढता है प्राइमरी मेमोरी में नहीं मिलने के बाद ही वह सेकेंडरी की ओर जाता है। प्राइमरी मेमोरी को (Temporary) अस्थाई मेमोरी भी कहा जाता है क्योंकि इसमें डाटा केवल पावर ऑन रहने तक ही Save रहता है इसलिए इसे Volatile Memory भी कहा जाता है।

Primary Memory के अंतर्गत तीन प्रकार के मेमोरी आते है- RAM, ROM, CACHE

RAM- रैम पूरा नाम Random Access Memory है यह कंप्यूटर का सबसे मुख्य मेमोरी होता है जिसको CPU डायरेक्ट एक्सेस करता है। यह कंप्यूटर को वर्किंग स्पेस देने का काम करता है, जिसमे computer के एक्टिव स्टेज (ON) रहने के दौरान जरुरत की सारी Data, Software, Programe इत्यादि लोड रहते है और कार्य जारी रहता है। परंतु यह एक Volatile Memory है जिसमे डाटा केवल उतनी ही देर तक save रह सकता है जब तक कंप्यूटर ON रहता है पावर OFF कर देने के पश्चात इसकी सारी डाटा गायब हो जाती है यानि यह खाली हो जाता है।

ROM- Read Only Memory- यह कंप्यूटर की एक ऐसी मेमोरी होती है जिसको कंप्यूटर सबसे पहले रीड करता है क्योंकि इसमें Manufacturar Company के द्वारा कुछ जरुरी Instructions तथा System के बारे में Information दिए गए होते है जिसके हेल्प से ही Booting प्रक्रिया पूरी होती है और Computer सामान्य रूप से ऑन होता है। ROM एक Non Volatile मेमोरी है।

Cache Memory- यह कंप्यूटर का एक ऐसा मेमोरी  है जो CPU (Microprocessor) के अन्दर पाया जाता है। यह सबसे Fast मेमोरी होता है जो CPU की Performance को Enhance करने का काम करता है। यह अपने अन्दर वैसे Adresses को सेव रखता है जिसकी CPU को बार-बार जरुरत पड़ता हो जिससे टाइम की बचत होती है और जल्दी-जल्दी इंस्ट्रक्शन एक्सीक्यूट हो पता है।

2. Secondary Memory -

Hard Disk Drive

Secondary Memory जिसे Secondary Storage Device भी कहते है यह कंप्यूटर की स्थायी मेमोरी होती है जिसमे Data पावर ऑफ़ होने के बाद भी सुरक्षित रहता है। कंप्यूटर की सभी Software , Data ,Information इत्यादि स्थाई रूप से इसी में Store रहते है कंप्यूटर अपनी जरुरत के अनुसार इसे Access करता है या हम अपनी जरुरत के लिए Command देकर Access करवाते है। कंप्यूटर में Secondary Memory का उपयोग डाटा को Permanently Save रखने के लिए होता है। इसमें सारी डाटा Binary Digit (0 & 1) के रूप में Save रहती है। इन बाइनरी डिजिट को Bit भी कहा जाता है जो Memory Unit की सबसे छोटी इकाई है, इसी Bit के Calculation से Memory की Storage Capacity का पता चलता है।
कंप्यूटर की सबसे महत्वपूर्ण Secondary Memory (Secondary Storage Device) है HDD-Hard Disk Drive जिसमे सभी Software , Data ,Information इत्यादि स्थाई रूप से Save रहते है।
इसके अलावा और भी कई प्रकार के सेकेंडरी मेमोरी होते है जैसे- SSD, CD, DVD, Flash Drive Etc.

इन्हें भी देखें:→

दोस्तों कंप्यूटर मेमोरी के बारे में लिखी गयी यह आर्टिकल आपको कैसी लगी इसके बारे में कमेंट के माध्यम से  Feedback जरुर दें। साथ ही यह आर्टिकल आपको अच्छी लगी हो तो एक Share जरूर करें ताकि औरों की ज्ञान को में बढ़ाने आपकी भी भूमिका हो।