कंप्यूटर मदरबोर्ड क्या है? Motherboard kya hai?

मदरबोर्ड क्या है? जाने कंप्यूटर मदरबोर्ड के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में....

Motherboard Kya Hai

वैसे तो मदरबोर्ड लगभग सभी प्रकार के Electronics Device में पाए जाते हैं जिसको हम लोग कई अलग-अलग नामों से जानते हैं जैसे-Motherboard, Mainboard, Logicboard Etc. परंतु यहां हम लोग कंप्यूटर मदरबोर्ड की बात कर रहे हैं।

कंप्यूटर मदरबोर्ड एक PCB-Printed Circuit Board होता है जिस पर कई सारे Components लगे होते हैं। PCB प्लास्टिक तथा अन्य मटेरियल से बना हुआ एक बोर्ड होता है जिस पर एक्सपर्ट के द्वारा बनाया गया डायग्राम के अनुसार Copper Track तथा Buses बने होते हैं और जिन-जिन Location में कंपोनेंट लगाने का Place Select किया गया होता है उन स्थानों पर उसके Pin के अनुसार कॉपर प्रिंट या Hole बने हुए होते हैं जिस पर वह कंपोनेंट सुगमता से Fit होकर एक दूसरे कंपोनेंट के साथ Smooth Connectivity बना सके। आज के Latest Motherboard में SMD-Surface Mount Device कंपोनेंट का यूज किया जाता है जो आकार में बहुत ही छोटे होते हैं SMD कंपोनेंट को बोर्ड पर लगाने के लिए Hole के बजाय छोटे-छोटे Print बने रहते हैं जिस पर उस कंपोनेंट को Mount किए गए होते हैं। 

कंप्यूटर मदरबोर्ड पर कंपोनेंट के अलावा और भी बहुत सारे Connector तथा Socket लगे हुए होते हैं जिस पर अलग से Cable के द्वारा या सीधे इसके इसके Socket में Internal तथा External Devices को Attach किया जाता है। 

Important Parts Of Computer Motherboard Explain In Hindi.

Parts Of Computer Motherboard In Hindi
कंप्यूटर मदरबोर्ड पर कई सारे छोटे-छोटे पार्ट्स जैसे Resistor, Capacitor, Mosfet, Transistor, Diode इत्यादि के अलावा कुछ Important Parts लगे होते हैं जिसकी कंप्यूटर मशीन में अहम भूमिका होती है जैसे CPU Socket, Chipset, IC, Ram Slot, PCI Slot Etc.

CPU Socket-

यह कंप्यूटर मदरबोर्ड पर बड़ी सी Square Shape में बनी हुई एक सॉकेट होता है जिसमें सीपीयू के अनुसार बहुत सारे पिन या छोटे छोटे Hole रहते हैं जिस सॉकेट पर Pin होते हैं उस पर Pin Less सीपीयू लगते हैं और जिस सॉकेट पर Hole रहते हैं उसमें Pin वाला सीपीयू Socket की बनावट वैसी होती है जिसमें सीपीयू को लगाकर Lock किया जा सके जिससे एक दूसरे के बीच अच्छी तरह से Connectivity बनी रहे। CPU के ऊपर HeatSink तथा Fan लगाने के लिए भी Fan के अनुसार Screw Tight करने के लिए Hole या Lock System बने होते हैं।

आजकल के Latest Motherboard में (ज्यादातर लैपटॉप के मदरबोर्ड में) CPU सॉकेट में लगाने के बजाय सीपीयू को Direct मदर बोर्ड पर ही Mount कर दिए गए होते है।

Chipset-

यह भी कंप्यूटर मदरबोर्ड का एक Important पार्ट है जो कंप्यूटर मदरबोर्ड पर लगी सभी IC Chip में से सबसे बड़ी Chip होती है। यह Chipset दो भागों में बटा होता है पहला North Bridge दूसरा South Bridge

North Bridge-

यह Chip Green Color का होता है जिसके ऊपर Metallic Part के सामान चमकने वाला एक Programming Part रहता है। यह Chip कार्य के दौरान बहुत ज्यादा Heat होती है जिस कारण इसके ऊपर Heat Sink लगे होते है। इस चिप को GMCH भी कहा जाता है GMCH बोले तो Graphic Memory Controller Hub अर्थात इस Chip का मुख्य काम Graphic तथा Memory को कंट्रोल करना होता है। Motherboard पर अगर देखा जाए जाए तो GMCH तथा CPU और RAM Slot के बीच बहुत सारे पतले Tracks (Lane) बने होते हैं जिसके माध्यम से Data का संचार होता है। यह Chip ज्यादातर मदर बोर्ड पर Intel कंपनी के पाए जाते हैं।

South Bridge-

इस Chip को ICH भी जाता है। ICH बोले तो Input Output Controller Hub अर्थात यह चिप कंप्यूटर में मुख्य रूप से Input Output Devices को कंट्रोल करने का कार्य करता है। और वास्तव में मदर बोर्ड को Analyse किया जाए तो सभी Input Output Device लगाने वाले Ports की Connectivity ICH के साथ दिखाई देती है।

Note- आजकल के Latest Motherboard पर इन दोनों Chip को Combined करके एक ही Chip बना दिया गया है जिसे PCH-Platform Controller Hub कहा जाता है। जहां तक कार्य की बात है तो उन दोनों चिप के कार्य की जिम्मेदारी इसी चिप को दिया गया है।

Ram Slot-

Motherboard पर लंबी लंबी सी 2-4 Slot बनी होती है जिस पर RAM Attach किए जाते हैं। सभी अलग-अलग मदर बोर्ड पर एक ही प्रकार के RAM को नहीं लगाया जा सकता है। उस Particular RAM Slot पर कौन सी रैम लग सकती है यह उस मदर बोर्ड के Specifications को देख कर पता लगाया जा सकता है इसके अलावा कुछ Indication होते हैं जिसको देख कर भी यह पता लगाया जा सकता है कि उस मदरबोर्ड पर कौन सी रैम लग सकती है।

Power Socket-

यह सॉकेट 20-24 Pin का एक पावर कनेक्टर है जिसपर SMPS से आने वाली Power Connector को Attach किया जाता है जिसके माध्यम से मदर बोर्ड पर Power Supply की आपूर्ति होती है। सॉकेट में पावर इनपुट होने के बाद अन्य सभी Components को Required Power मदर बोर्ड पर बने Lane के माध्यम से पहुंचता है।

PCI Slot-

इस Slot का पूरा नाम Peripheral Component Interconnect है जिसमे जरूरत के अनुसार Expansion Card जैसे Graphic Card, LAN Card, Sound Card, WiFi Card Etc. Attach किए जाते हैं।

CMOS Cell Socket-

इसपर एक Cell लगाये जाते है जिसे CMOS Cell कहते है जो CMOS Chip को Power Off होने के बाद भी लगातार Power Supply देने का कार्य करता है जिससे Date and Time हमेसा Running Condition में रहता है और System On करने के बाद हमेसा Current Value Show करता है।


SATA Port-

यह 7 Pin का छोटा सा Connector होता है जिसके साथ Hard Drive, DVD Drive को Attach किया जाता है। यह एक मदरबोर्ड पर 2-4-6 की संख्यां में पाए जाते है। 

इन सभी के आलावा भी कुछ Port लगे होते है जो Cabinet के Back Side दिखाई देते है जैसे-

PS2 Port-

यह पोर्ट गोल आकर में होता है जिसमे Six Pin की अटैचमेंट के लिए होल बने होते है. जिसमे PS2 वाला कीबोर्ड तथा माउस को कनेक्ट किया जाता है. यह पोर्ट दो अलग अलग कलर में होते है जिसमे एक पर्पल तथा दूसरा ग्रीन होता है. पर्पल कलर वाले पोर्ट कीबोर्ड के लिए होते है तथा ग्रीन कलर वाले पोर्ट माउस को लगाने के लिए होते है. यह एक पुरानी टेक्नोलॉजी है जिसका इस्तेमाल लेटेस्ट कंप्यूटर में नहीं किया जाता है इसका स्थान USB ने ले लिए है आज कल के लेटेस्ट कंप्यूटर में कीबोर्ड, माउस को USB पोर्ट पर ही लगाये जाते है.

USB Port-

यह आयताकार शेप में बना एक छोटा सा Female पोर्ट होता है. इसका पूरा नाम Universal Serial Bus होता है. इसके अन्दर 4 या 9 Pin होती है. यह Serial Communication पर कार्य करता है इसलिए यह फ़ास्ट Communication करता है. इसकी अधिकतम डाटा ट्रान्सफर स्पीड 10 Gigabit Per Second तक होती है. कंप्यूटर के लगभग सरे एक्सटर्नल डिवाइस को इसी पोर्ट के माध्यम से Connect किया जाता है. USB काफी पोपुलर पोर्ट है जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर के अलावे भी कई सरे इलेक्ट्रॉनिक गैजेट में किया जाता है.

LAN Port-

यह Networking के काम में आनेवाला पोर्ट होता है जिसका इस्तेमाल एक दुसरे कंप्यूटर को नेटवर्क में जोड़ने के लिए या इन्टरनेट केबल को Connect करने के लिए किया जाता है. इसको RJ45 Port भी कहा जाता है.

VGA Port-

इस पोर्ट का पूरा नाम Video Graphic Array Port है. इसके माध्यम से Graphic Signal को आउट किया जाता है. जिसमे VGA केबल के माध्यम से Visual Display Unit मॉनिटर को जोड़ा जाता है. यह पोर्ट ब्लू कलर का होता है इसमें छोटे छोटे 15 होल्स होते है और इन्ही होल्स में VGA केबल की पिन एक दुसरे से कनेक्टिविटी बनाती है. इस पोर्ट से केवल विडियो सिग्नल ही प्राप्त होता है Audio Signal नहीं Audio के लिए हमें अलग से Attachment लगाना पड़ता है.

HDMI Port-

यह पोर्ट भी Visual Display Unit को ही जोड़ने के लिए होता है. पर इसकी एक अलग विशेस्ताएं है. इस पोर्ट के माध्यम से High Resolution Video Signal With Audio Signal आउट किया जाता है.

Serial Port-

इस पोर्ट में 9 Pin होती है जिसका इस्तेमाल पुराने समय के मॉडेम, प्रिंटर, कीबोर्ड, माउस को कनेक्ट करने के लिए किया जाता था. आजकल इसका उपयोग नहीं है जिस कारन Latest System से इसको हटा दिया गया है.

Parallel Port-

इस पोर्ट का इस्तेमाल पुराने समय में प्रिंटर तथा स्कैनर को कनेक्ट करने के लिए होता था. आजकल के लेटेस्ट कंप्यूटर में इस पोर्ट को हटा दिया गया है.

Audio Mic Port-

इस पोर्ट का इस्तेमाल म्यूजिक सिस्टम तथा माइक्रोफोन को कनेक्ट करने के लिए किया जाता है.

Types Of Computer Motherboard In Hindi

कंप्यूटर मदरबोर्ड अपनी Farm Factor तथा Technology Upgradation के अनुसार मार्केट में विभिन्न प्रकार के आ चुके हैं इनमे से दो AT तथा ATX टेक्नोलॉजी के मदरबोर्ड काफी पोपुलर है  और इन्ही दोनों टाइप के मदरबोर्ड की बहुत सारे अलग अलग Variant मोजूद है.

AT Motherboard-

यह मदरबोर्ड कंप्यूटर में यूज किया जानेवाला सबसे पुरानी मदर बोर्ड में से है जिसका पूरा नाम Advance Technology Motherboard है अर्थात उस समय यही मदरबोर्ड Advanced Technology में थे जिसमें Six Pin के दो पावर कनेक्टर लगे होते थे इस मदरबोर्ड को1980 के दशक में IBM के द्वारा बनाया गया था इस मदर बोर्ड की साइज लंबाई 351mm एवं तथा चौड़ाई 305mm थी। यह मदरबोर्ड आकार में बड़ी होने के कारण ही सभी डेक्सटॉप में फिट नहीं होते थे। इस मदरबोर्ड के बाद इसके दूसरे Upgraded Variant आये थे जिसका नाम Baby AT था जो आकार में AT से छोटा था। 1997 के बाद AT Farm Factor वाले Motherboard का स्थान ATX Farm Factor वाली मदर बोर्ड ने ले लिया।

ATX Motherboard-

ATX Motherboard इंटेल कंपनी के द्वारा बनाया था जो AT Family Motherboard से छोटी थी तथा नई टेक्नोलॉजी से लैस थी। इस मदर बोर्ड पर External Devices को जोड़ने के लिए Port बने हुए थे तथा मदर बोर्ड पर Extra Add-Ons Card Slot दिए गए थे। इसमें BIOS-Basic Input Output System कंट्रोल का फीचर भी दिया गया था। इसके Latest Variant को आज भी उपयोग में लाया जाता है। ATX Motherboard के कई सारे Variant मौजूद हैं जैसे मिनी- ATX, Mini ITX, Micro ATX, E-ATX 

Functions Of Computer Motherboard In Hindi

  • कंप्यूटर सिस्टम में मदर बोर्ड के फंक्शन की बात करें तो सबसे पहले इसका मुख्य कम है कि यह छोटे-छोटे Component जैसे Resistor, Capacitor, Chip, IC इत्यादि एक दुसरे से जोड़कर Circuit बनाने का काम करता है
  • कंप्यूटर सिस्टम का सबसे मुख्य Component जैसे- CPU, RAM, Graphic Card इत्यादि के Attachment के लिए जगह देकर दूसरे Component बीच Communication करवाने का काम करता है।
  • यह SMPS या Adapter से आनेवाली पॉवर को अलग-अलग भागों के सभी कंपोनेंट तक Required Power Supply पहुंचाने का कार्य करता है।
  • यह पुरे कंप्यूटर सिस्टम में लगे एक-दूसरे कंपोनेंट तथा एक-दुसरे डिवाइस के बीच कम्युनिकेशन करवाने में मदद करता है।
इस प्रकार सीधे शब्दों में कहा जाए तो जिस प्रकार सभी अलग-अलग पार्ट की अपनी एक जरूरत होती है ठीक उसी प्रकार कंप्यूटर सिस्टम में मदरबोर्ड की भी अपनी एक जरूरत है अकेले कोई एक पार्ट कंप्यूटर सिस्टम को नहीं चला सकता बल्कि उसमें लगे सारे पार्ट मिलकर एक पूरी कंप्यूटर सिस्टम का निर्माण करते हैं तथा इसको कार्य करने योग्य बनाते है।




Friends हमें आशा है की इस लेख को पढ़ने के बाद आपको कंप्यूटर मदरबोर्ड के बारे में बहुत कुछ जानने को मिला होगा. फिर भी यदि इसके बारे में कुछ Confusion रह गई हो तो हमें Comment के माध्यम से बताएं हम आपके Confusion को दूर करने की पूरी कोसिस करेंगे। साथ ही यह आर्टिकल अगर आपके लिए हेल्पफुल रही हो तो इस Post को अधिक से अधिक Share करें ताकि ओरों के लिए भी हेल्पफुल हो सके। Comtech In Hindi से जुड़े रहने के लिए, धन्यवाद !