ग्राफ़िक कार्ड (GPU) क्या है? Graphic card kya hai?

ग्राफ़िक कार्ड क्या है? Graphic card kya hai?

फ्रेंड्स आज के समय में हम में से सायद ही कोई लोग होगा जिन्हें कंप्यूटर, मोबाइल जैसे डिवाइस के बारे में कुछ भी पता नहीं होगा क्योंकि आज हम सभी कंप्यूटर-मोबाइल जैसे डिवाइस पर पूरी तरह निर्भर हो चुके है। इसका मुख्य कारण आज की बदलती टेक्नोलॉजी है। जैसे-जैसे कंप्यूटर और इन्टरनेट के क्षेत्र में विकास होता जा रहा है वैसे-वैसे हर एक कार्य कंप्यूटराइज्ड होता जा रहा है वो भी ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस के साथ।

ऐसे में हम सभी को पता है कि कंप्यूटर कई एक पार्ट्स से मिलकर बना होता है और हर एक पार्ट्स की अपनी एक जरुरत होती है। इन सभी पार्ट्स में से कंप्यूटर के अन्दर एक पार्ट होता है जिसका नाम है Graphic Card जो कंप्यूटर के अन्दर Graphical Task Management का काम करता है.

आज हमलोग इस आर्टिकल में Graphic Card के बारे में ही विश्लेषण करने जा रहे है. इसलिए आपसे आग्रह है की पूरी आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पढ़ें। तो चलिए शुरू करते है....

ग्राफ़िक कार्ड के बारे में जानने से पहले हमलोगों को संक्षेप में कंप्यूटर ग्राफ़िक के बारे में जान लेना आवश्यक होगा इसलिए आइये जानते है कि कंप्यूटर ग्राफ़िक क्या है....

कंप्यूटर ग्राफ़िक क्या है? Computer graphic kya hai?

Graphic Card Kya Hai
कंप्यूटर के स्क्रीन पर दिखाई देने वाले सारे रंग बिरंगे Text, Picture, Shape इत्यादि (चाहे वो किसी भी Form में हो .JPG, .MP4, .GIF इत्यादि) जो Visual होता है अर्थात हमें दिखाई देता है वे कंप्यूटर ग्राफ़िक कहलाता है और ये सभी ग्राफ़िक कंप्यूटर स्क्रीन पर एक-एक Pixel जो एक डॉट के सामान होता है से मिलकर बनता है। ये डॉट अर्थात Pixel भी कोई खास चीज नहीं बल्कि बहुत सारी पूरी स्क्रीन पर Row और Column में विभाजित RGB लाइट होती है जो ग्राफ़िक सिग्नल के आधार पर Glow होकर अलग-अलग तरह के रंगों का निर्माण करती है।

अगर यदि किसी स्क्रीन का Resolution 1366*768 तो इसका मतलब है की उस स्क्रीन पर 1366 Column में और 768 Row में Pixel विभाजित है और इस स्क्रीन में Total Pixel की संख्यां 1366*768 = 1049088 है जो Graphic Controller से आ रही Data Signal (जो Binary Form- 0 और 1 के रूप में रहता है) के आधार पर High Low होती है और अलग-अलग कलर बनाती है फिर ये सभी कलर एक दुसरे से मिलकर Signal के आधार पर ही कोई Picture बनाती है जिसे देखने पर हमें एक सुन्दर सी आकृति नजर आती है। इसी कांसेप्ट के आधार पर हमारे कंप्यूटर में कोई भी Graphic (Picture, Video, Graph, Shape इत्यादि) दिखाई देता है। इन्ही Graphical Data को Control करने का काम Graphic Card करता है।
अब जानते है कि ग्राफ़िक कार्ड क्या है और एक कंप्यूटर सिस्टम में इसका क्या काम है....

ग्राफ़िक कार्ड क्या है? Graphic card kya hai?

Graphic Card जिसे GPU अर्थात Graphical Processing Unit भी कहा जाता है यह वास्तव में कंप्यूटर का एक कॉम्पोनेन्ट होता है जो कंप्यूटर के मदरबोर्ड पर एक चिप के रूप में लगा होता है। कंप्यूटर सिस्टम में GPU काम CPU के तरह ही Data को Process करना होता है परंतु इसका काम CPU के जैसा हर तरह के डाटा को प्रोसेस करना नहीं होता है बल्कि इसका काम केवल Graphical Data को Process करना होता है, जो Data इसे CPU के द्वारा ही प्राप्त होता है।

जिस प्रकार CPU में Processing के लिए आनेवाली और Processing होकर जानेवाली सभी डाटा तत्काल रूप से स्टोर होने के लिए RAM लगी होती है ठीक उसी प्रकार Graphical Processing Unit में आनेवाले और जानेवाली Graphical Data को तत्काल रूप से स्टोर होने के लिए Graphic Chip के साथ Memory भी लगी होती है जिसे Video Memory या Video RAM (V-RAM) भी कहा जाता है। इसमें प्रोसेसिंग के लिए आनेवाली ग्राफिकल डाटा और प्रोसेसिंग होकर Display Unit की तरफ जानेवाली ग्राफिकल डाटा तत्काल रूप से स्टोर होती है।

Graphical Processing Unit तो सभी कंप्यूटर में पाया जाता है परंतु इसकी कार्य क्षमता तथा बनावट अलग-अलग होते है जो इसके कॉन्फ़िगरेशन तथा मैन्युफैक्चरर कंपनी पर निर्भर करता है। हालाँकि जैसे-जैसे बजट रेंज में ऊपर बढ़ते जाते है वैसे-वैसे हमें ताकतवर GPU वाली कंप्यूटर देखने को मिलता है।


ग्राफ़िक कार्ड या GPU कितने प्रकार के होते है?

सामान्य रूप से कंप्यूटर के ग्राफ़िक कार्ड दो तरह के होते है....

इंटीग्रेटेड या ऑनबोर्ड ग्राफ़िक कार्ड (Integrated Or Onboard Graphic Card):

यह कोई अलग से बना हुआ डेडिकेटेड ग्राफ़िक कार्ड नहीं होता है बल्कि इस तरह के GPU वाले कंप्यूटर में CPU के अंदर ही Graphic Controller Section होता है जो उस कंप्यूटर के Graphical Data को हैंडल करने का काम करता है। इंटीग्रेटेड ग्राफ़िक के पास Graphical Data को Processing करने के लिए अपनी कोई CPU या V-RAM नहीं होती है बल्कि यह System CPU तथा System RAM की ही Resources को यूज़ करके Graphical Data को मैनेज करने का काम करता है।

इस तरह के GPU से हम कोई बड़ी Graphical Work जैसे- VFX, Animation, Video Rendering नहीं करवा सकते क्योंकि यह केवल Visual Clarity को बेहतर बनाने और Normal Graphical Work जैसे- Video देखना, छोटी-मोटी Game खेलना, Photo Editing इत्यादि को हैंडल करने के उद्देश्य से दिया गया होता है, इसकी क्षमता उतनी नहीं होती है कि यह बड़ी ग्राफिकल डाटा को मैनेज करवा सके।


डेडिकेटेड ग्राफ़िक कार्ड (Dedicated graphic card):

डेडिकेटेड ग्राफ़िक कार्ड वास्तव एक Graphic Card होता है जिनमे Graphical Data को हैंडल करने के लिए Dedicated Graphic Controller Chip जिसे Graphical DATA Processor भी कह सकते है, तथा Dedicated Video Memory लगी होती है।

लैपटॉप के केस में यह Graphic Card Motherboard पर ही Mount किये गए होते है जिसे हमलोग Graphic Controller Section के नाम से भी जानते है। लैपटॉप के केस GPU मदरबोर्ड पर ही माउंट होने के कारण इसमें हम Graphic Card को Upgrade नहीं कर सकते है।

परंतु डेस्कटॉप कंप्यूटर के केस में यह GPU एक Special Card की तरह होता है जिसमे Graphic Chip तथा V-RAM इत्यादि लगे होते है साथ ही ओवर हीटिंग से बचने के लिए इनमे एक स्पेशल कूलिंग फैन भी लगी होती है। इस कार्ड को डेस्कटॉप मदरबोर्ड के PCI Slot में लगाया जाता है। डेस्कटॉप के केस में Graphic Card को जरुरत के अनुसार हम कभी भी Upgrade कर सकते है।

Graphic Card अलग-अलग प्राइस रेंज में अलग-अलग क्षमता के मिलते है। साधारण रूप से ग्राफ़िक कार्ड के क्षमता को इसमें लगे Memory तथा Clock Speed के आधार पर काउंट किया जाता है। जैसे- 2GB Graphic Card, 4GB Graphic Card इसमें 2GB, 4GB इसकी RAM Space को बता रहा है।

Dedicated Graphic Card वाले डेस्कटॉप अथवा लैपटॉप में हम हर तरह के Graphical Work जैसे-VFX, Animation, Designing, Video Rendering, Gaming Etc. बड़े ही आसानी से कर सकते है, इनमे ध्यान केवल इस बात का रखना पड़ता है कि आपके कार्य क्षेत्र में जिस भी सॉफ्टवेयर का उपयोग किया जायेगा उसके लिए कितने GB की Graphic Card की आवयश्कता है। अगर आपके लिए 2GB प्रयाप्त है तो 2 GB में भी काम हो जायेगा यदि 4GB चाहिए तो आपके PC में भी 4GB का ग्राफ़िक कार्ड होना जरुरी होगा।


कंप्यूटर में ग्राफ़िक कार्ड के कार्य? Computer me graphic card ke karya?
Graphical Data Flow Diagram

ग्राफ़िक कार्ड के कार्य की बात करें तो साधारण रूप से हम सभी पहले ही जान चुके है कि यह Graphical Data को मैनेज करने का काम करता है चाहे Integrated Graphic हो अथवा Dedicated परंतु एक अच्छी Graphic Card की जरुरत कब और क्यों पड़ती है इसे समझने के लिए हमें Graphical Data के Working Concept को समझना होगा।

हम सभी जान रहे है कि कंप्यूटर में Graphic Card के लिए हमारे पास दो ऑप्शन मौजूद है Integrated Graphic जो सभी PC में आते है और Dedicated Graphic जिसे हमें Demand पर लेना पड़ता है जिसकी बजट भी थोड़ी ज्यादा होती है।

ऐसे में जब कोई PC केवल Integrated Graphic वाला हो तो उसकी CPU ही सारी डाटा को मैनेज करने की क्षमता रखता है, परंतु इसकी क्षमता उस वक्त Fail होने लगती है जब बड़ी मात्रा में एक साथ एक ही समय में Graphical Data को Processing करके आउटपुट दिखाना पड़ रहा हो और ऐसा होना भी लाजमी है क्योंकि एक CPU को कंप्यूटर में इनपुट दी जा रही सारी डाटा को Processing करना पड़ता है ऐसे में CPU के पास काफी Workload होता है जिस कारण ऐसी स्थिति में Bottleneck उत्पन्न हो जाती है।

इस प्रकार की समस्या से बचने के लिए PC में एक अच्छे Dedicated Graphic Card का होना जरुरी हो जाता है क्योंकि एक ग्राफ़िक कार्ड कंप्यूटर के सारी Graphical Data Processing की जिम्मेदारी अपने ऊपर ले लेता है और इसकी तकनीक भी ऐसी होती है कि यह अपने कार्य को आसानी से कर लेता है। इससे CPU की भी Workload कम हो जाती है जिससे उसकी Performance भी अच्छी देखने को मिलती है।

Dedicated Graphic Card में एक Graphic Chip लगी होती है जिसमे हजारों की संख्या में छोटे-छोटे निम्न क्षमता वाले Core होते है जिसे Cuda Core कहा जाता है, ये सभी Core एक साथ Graphical Data को Processing या Render करने का काम करता है जिससे यह बड़ी-बड़ी ग्राफिकल डाटा को एक ही समय में भी बड़े ही आसानी से मैनेज कर लेता है। पर CPU ऐसा नहीं कर सकता क्योंकि भले ही CPU की Core इससे अधिक ताकतवर हो परंतु संख्या में GPU से बहुत ही कम होती है इस कारण Graphical Data Proceeding के मामले में CPU से आगे GPU है। हालाँकि दोनों की अपनी अलग-अलग कार्य और विशेषता है क्योंकि CPU एक General Purpose Processor है यानि यह All-rounder है जबकि GPU केवल एक ही चीज में माहिर है।

कंप्यूटर में ग्राफ़िक कार्ड कैसे लगाएं? Computer me graphic card kaise lagaye?

किसी भी कंप्यूटर में Graphic Card लगाने से पहले कुछ जरुरी बातों का ध्यान रखना होगा जैसे-
  • आपको कितने GB में Graphic Card की आवश्यकता है।
  • जिस भी PC में Graphic Card लगाने जा रहे है उसकी Maximum Graphic Supportable क्षमता कितनी की है।
  • आपका कंप्यूटर Branded है या Assemble क्योंकि Branded रहने पर उसके लिए Model के According Graphic Card लेना पड़ता है और Assemble रहने पर Standard Graphic Card लग जाता है।
  • आपके PC के Motherboard पर PCI का कौन सा Version वाला Slot है जैसे- PCI-e, PCI-e X16 Etc.
  • Graphic Card किस कंपनी का लगाना है तथा Graphic Chip AMD में चाहिए या NVidia में।
जब सब कुछ Analyze हो जाये और पूरी तरह आस्वस्त होकर Graphic Card को सेलेक्ट कर लें तब Graphic Card को Online या Offline मार्केट से Purchase करके System Unit की Case को खोलें और Motherboard पर PCI Slot में लगा दें, फिर उस Computer System को On करके उनमें Graphic Card का Driver इनस्टॉल कर लें उसके बाद आपका Graphic Card रेडी है Output देने के लिए, अब आप Graphic Card से ही Video Output लें।


Conclusion (निष्कर्ष):
फ्रेंड हमें उम्मीद है की हमारे द्वारा ग्राफ़िक कार्ड के बारे में लिखी गयी इस आर्टिकल के माध्यम से आपको बहुत कुछ जानने को मिला होगा, फिर भी यदि किसी प्रकार की कोई Confusion रह गयी हो तो कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है. साथ ही इसी प्रकार के कंप्यूटर और टेक्नोलॉजी से सम्बंधित आर्टिकल को पढने के लिए Comtech In Hindi से जुड़े रहे. अगर यदि यह आर्टिकल आपको पसंद आई हो तो अपने फ्रेंड सर्किल में अधिक से अधिक शेयर करें. Comtech In Hindi से जुड़े रहने के लिए....धन्यवाद!