Type Here to Get Search Results !

ब्लॉगिंग क्या होता है? Blogging kya hota hai? जानिए सबकुछ यहाँ पर?

ब्लॉगिंग क्या होता है? What is blogging in hindi? जानिए ब्लॉगिंग के बारे में वो सब कुछ जो आप जानना चाहते है?

फ्रेंड्स जैसा की हम सब जान रहे है कि आज जमाना इन्टरनेट और टेक्नोलॉजी का हो गया है क्योंकि आज हर एक तरह के कार्य को करने के लिए या हर एक तरह के जानकारियां को प्राप्त करने के लिए ज्यादातर इंटरनेट और टेक्नोलॉजी का ही सहारा लिया जा रहा है ऐसे में जब इन्टरनेट की बात आती है तभी नाम आता है Google, Bing जैसे सर्च इंजन का क्योंकि शायद आप में से ज्यादातर लोगों को पता होगा की इन्टरनेट जिसका हिंदी में मतलब होता है अंतरजाल यह वास्तव मे केवल दुनिया के हर एक दूसरे कम्प्यूटेशनल डिवाइस को आपस में कनेक्ट करके रखने का एक माध्यम है असली काम तो Google, Bing जैसे Search Engine ही करता है।

वैसे जब भी कोई जानकारियां हम इन्टरनेट के माध्यम से प्राप्त करते है तो आम बोलचाल की भाषा में हम सब हमेशा बोलते है कि वे जानकारियां हमें इन्टरनेट से मिली या गूगल से मिली पर वास्तव में वे जानकारियां हमें किसी Blog, Website, Social Site इत्यादि से मिलती है क्योंकि यहीं पर कोई इनफार्मेशन पाई जाती है, इंटरनेट तो एक-दूसरे को कनेक्ट करने का माध्यम होता है, और Search Engine एक विशेष अल्गोरिथम पर निर्मित ऐसा वेब आधारित सॉफ्टवेयर होता जो एक फ़िल्टर टूल की तरह कार्य करता है जो हर एक Blog, Website, Social Site या उसपर दी गयी इनफार्मेशन इत्यादि को हैंडल करने का काम करता है तथा हमारे द्वारा सर्च की जा रही क्वेरी के अनुकूल जानकारी हमें इन्टरनेट (वर्ल्ड वाइड वेब) पर से खोज कर देने का काम करता है।

असल में तो कोई भी इनफार्मेशन किसी Blog, Website, Social Site जैसे प्लेटफार्म पर ही होती है और यहाँ भी जानकारियाँ अपने आप ही नहीं आती है बल्कि किसी सामान्य से लेकर प्रोफेशनल लोगों द्वारा आर्टिकल, इमेज, विडियो, एनीमेशन इत्यादि के रूप में इनफार्मेशन पब्लिश की जाती है। कोई Blog बनाकर आर्टिकल पोस्ट करता है तो कोई Facebook, Instagram जैसे Social Site पर जानकारियां पोस्ट करता है तो कोई Youtube पर Video के माध्यम से जानकारी शेयर करता है साथ ही इन सभी से लोग पैसे भी कमाते है।

इन सभी में से जब "Blog" का नाम आता है तभी नाम आता है "Blogging" का। ऐसे में क्या आप जानते है की ब्लॉगिंग क्या होता है, ब्लॉगिंग कैसे की जाती है, ब्लॉगिंग से पैसे की कमाई कैसे होती है वगैरह-वगैरह। अगर ऐसे ही सवालों के बारे में जानने के लिए यहाँ तक आएं है तो आप सही जगह है क्योंकि आज हमलोग इस आर्टिकल में ब्लॉगिंग से सम्बंधित हर एक टॉपिक को कवर करने वाले है इसलिए आपसे आग्रह है कि पूरी आर्टिकल को ध्यानपूर्वक पढ़ें।

ब्लॉगिंग क्या होता है? Blogging kya hota hai?

Blogging kya hota hai?

संक्षेप में कहे तो किसी खास विषय पर आधारित इंफॉर्मेशनल वेबसाइट बनाकर उस पर ब्लॉग लिखने की प्रक्रिया या कहे तो आर्टिकल लिखकर पब्लिश करने की प्रक्रिया ब्लॉगिंग कहलाता है। ब्लॉगिंग में ब्लॉगर अपना एक ब्लॉग बनाकर अलग-अलग टॉपिक पर आर्टिकल लिखकर जानकारियां शेयर करता है जिसको पढ़ने के लिए उस ब्लॉग तक लोग सर्च इंजन के माध्यम से या डायरेक्ट ही यूआरएल टाइप करके आते है जिससे लोगों को जानकारियां मिल पाती है। हम जब कभी भी गूगल बिंग जैसे सर्च इंजन पर किसी टॉपिक से सम्बंधित क्वेरी लिखकर सर्च करते है तो हमें कई सारे लिंक टाइटल के साथ सर्च रिजल्ट में दिखाई देते है जो किसी ब्लॉग पर लिखा गया ही आर्टिकल का लिंक होता है जिसपर क्लिक करने के पश्चात हम उस आर्टिकल के पेज पर पहुँच जाते है और वहाँ हमें उस टॉपिक से सम्बंधित जानकारियां मिल जाती है, इसी कार्य को करने की क्रिया अर्थात ब्लॉग लिखने की क्रिया ब्लॉगिंग कहलाता है।

वास्तव में ब्लॉगिंग केवल आर्टिकल लिखने तक ही सीमित नहीं है बल्कि इसमें कई तरह के टेक्निकल काम जैसे Infographic Image Making, Search Engine Optimization, Image Optimization, Link Building, Advertising, Previous Post Updating इत्यादि भी करना पड़ता है।

जिन लोगों के द्वारा ब्लॉगिंग का कार्य किया जाता है उसे ब्लॉगर कहा जाता है और ब्लॉगर मुख्य रूप से दो तरह के होते है जिनमे से एक तो वे होते है जो ब्लॉगिंग केवल Passion के लिए करते है और इनका उदेश्य इससे पैसा कमाना नहीं होता है बल्कि ये हॉबी के के तौर पर ब्लॉगिंग करते है और दूसरा वो होते है जो ब्लॉगिंग को अपना एक Profession मानकर करते है जिसका उदेश्य ब्लॉगिंग से पैसा कमाना होता है.

ब्लॉग क्या होता है?

ब्लॉग वेब डेवलपमेंट मेथड से बनायी गयी एक इंफॉर्मेशनल वेबसाइट होती है, जिसपर ब्लॉगर और कंटेंट राइटर के द्वारा किसी भी टॉपिक पर आर्टिकल लिखकर पोस्ट की जाती है, और वही आर्टिकल सर्च इंजन में इंडेक्स होने के पश्चात हमे हमारे क्वेरी के अनुकूल गूगल या बिंग इत्यादि के सर्च रिजल्ट में दिखाई देती है जिसपर क्लिक करके हमलोग कोई भी इनफार्मेशन प्राप्त करते है।

हालांकि ब्लॉग बनाने के लिए कोई विशेष वेब डेवलपमेंट के बारे में जानने की जरूरत नही पड़ती है क्योंकि आज बहुत सारे ऑनलाइन Web CMS-Content Management System प्लेटफार्म जैसे- Wordpress, Wix, Shopify इत्यादि मौजूद है जो हमे वेबसाइट बनाने के लिए एक आसान ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस प्रदान करते है जिसपर बिना कोडिंग की जानकारी हुए भी बड़े ही आसानी से कोई ब्लॉग अथवा वेबसाइट बनाकर मैनेज कर सकते है।

Web CMS एक क्लाउड बेस्ड सॉफ्टवेयर की तरह होता है जिसपर किसी वेबसाइट को मैनेज करने के लिए कई सारे टूल तथा एप्लीकेशन मौजूद होते है जिसकी मदद से किसी ब्लॉग अथवा वेबसाइट को मैनेज किया जाता है। ज्यादातर CMS पेड प्लेटफार्म होते है अर्थात इसको यूज़ करने के लिए हमे पैसे चुकाने पड़ते है पर जब केवल ब्लॉग की बात आती है तब उसके लिए गूगल के द्वारा फ्री में प्रदान की जानेवाली Blogger प्लेटफार्म भी मौजूद है जो बिल्कुल फ्री है ये भी एक CMS ही है परंतु यहां हमे सीमित ऑप्शन मिलते है फिर भी यहां एक अच्छे ब्लॉग बनाया जा सकता है क्योंकि जितने ऑप्शन मौजूद होते है उतने में ही एक ब्लॉग को क्रिएट तथा मैनेज किया जा सकता है।

ब्लॉगिंग से पैसे कैसे कमाये जाते है?

हम सभी जान रहे है कि आज ज्यादातर लोगों को चाहे कुछ भी चीजों की जानकारी चाहिए होता है, शॉपिंग करना होता है या मूवी देखना होता है या कुछ अन्य काम करना होता है तो वे इंटरनेट का ही सहारा लेते है, सीधे तौर पर कहें तो आज ज्यादातर कार्य इंटरनेट के माध्यम से किये जाने लगे है, साथ ही लोग Facebook, Instagram जैसे सोशल मीडिया पर बहुत ही ज्यादा समय बिताने लगे है, ऐसे में अब किसी भी चीज की मार्केटिंग और प्रचार-प्रसार का तरीका भी बदल गया है, जमाना डिजिटल मार्केटिंग का हो गया है और जाहिर सी बात है कि जहां ज्यादा लोग आएंगे वहीं मार्केटिंग का भी कुछ स्कोप रहेगा वरना एक सुनसान जंगल मे बैनर लगा देने से क्या कोई फायदा होने वाला है, नहीं।

ऐसे में जब जान रहे है की जमाना डिजिटल मार्केटिंग का हो गया है तो शायद से भी समझ सकते है कि अगर किसी भी ऑनलाइन प्लेटफार्म पर हमारे पास ज्यादा से ज्यादा लोगों की पहुंच हो तो वहां एक वेब-बैनर लगाकर भी किसी चीज का प्रचार किया जा सकता है क्योंकि वहां मार्केटिंग का स्कोप दिख रहा है और साधारण रूप में कहें तो इसी का पैसा ब्लॉगिंग में है और मार्केटिंग के क्षेत्र में कितना पैसा है वो तो शायद आप शहरों में लगे बड़े-बड़े होर्डिंग और टीवी पर आनेवाले विज्ञापन से अंदाजा लगा सकते है।

ब्लॉगिंग करने से हमारे पास बहुत ही बड़ी संख्यां में लोगों की पहुंच होती है क्योंकि जब हम कोई इंफोर्मेशनल ब्लॉग बनाते है और उसमें कंटेंट पोस्ट करते है तो उस कंटेंट को पढ़ने के लिए लोग हमारे ब्लॉग पर आते है और जब लोग आते है तो वहां भी मार्केटिंग का कुछ स्कोप है ही। ऐसे में हम किसी ऑनलाइन विज्ञान प्रदाताओं जैसे Google Adsense से जुड़कर अपने ब्लॉग पर विज्ञापन दिखाते है जिससे हमें कमाई होती है, इसके अलावे भी कई सोर्सेज होते है जैसे Affiliate Marketing इसमे हम अपने ब्लॉग के माध्यम से किसी थर्ड पार्टी की कोई प्रोडक्ट या सर्विसेज सेल करवाते है जिसके बदले हमे Commision के तौर पर कमाई होती है, हालांकि इसके अलावे और भी अलग-अलग तरह से ब्लॉगिंग में कमाई होती है जिसका उल्लेख आगे किया गया है।

ब्लॉगिंग करने के लिए हमें किन-किन चीजों की आवश्यकता होती है?

ब्लॉगिंग करने के लिए आपके पास जो चीजें होनी चाहिए उनमे से सबसे महत्वपूर्ण चीज है नॉलेज और लिखने-पढ़ने की कला जिसके बारे में आप आर्टिकल लिखना चाहते है, जब तक आपके पास नॉलेज नही है तब तक आप ब्लॉगिंग में सफल नही हो सकते है क्योंकि ब्लॉगिंग में आपको नियमित रूप से आर्टिकल पोस्ट करना पड़ता है इसलिए किसी एक विषय मे विशेष ज्ञान होना आवश्यक है या फिर आप अध्ययनरत रहें।

इसके अलावे जो चीजें है वो है सारी रिसोर्सेज, रिसोर्सेज में आपको एक लैपटॉप या डेस्कटॉप होना आवश्यक है, कुछ लोग कहते है मोबाइल से भी ब्लॉगिंग संभव है पर में नही मानता क्योंकि ब्लॉगिंग में जो-जो कार्य करना पड़ता है वे सभी कार्य मोबाइल पर अच्छे से संभव नही है, इसके अलावा आपके पास इंटरनेट कनेक्शन होना आवश्यक है जो शायद आज सब के मोबाइल फ़ोन में रहता है, उसके बाद आप ब्लॉगिंग शुरू कर सकते है।

हालांकि ब्लॉगिंग शुरू करने के लिए सबसे पहले आपको एक ब्लॉग बनाना होगा जो एक वेबसाइट की तरह ही होता है जिसको बनाने के लिए आपके पास दो तरह के प्लेटफार्म है, एक तो वो है जो Google खुद फ्री में प्रोवाइड करती है वो है Blogger और दूसरा प्लेटफार्म है Wordpress इत्यादि जिसके लिए आपको पैसे खर्च करने पड़ते है हालांकि यहां आपको कई सारे ऑप्शन, टूल, प्लग-इन इत्यादि मिलते है जिसकी मदद से बेहतर से बेहतर ब्लॉग बना सकते है साथ ही इसमें आपका पूरा कंट्रोल होता है।

Wordpress जैसे CMS पर ब्लॉग बनाने के लिए आपको Hosting और Domain की जरूरत पड़ेगी जिसे Hosting तथा Domain Service Provider से खरीदना पड़ेगा।

CMS- Content Management System एक वेब बेस्ड प्लेटफार्म होता है जो आपको वेबसाइट बनाने के लिए एक यूजर फ्रेंडली इंटरफ़ेस प्रदान करती है जहां बिना कोडिंग के ज्ञान हुए भी अपने ब्लॉग अथवा वेबसाइट को बड़े ही आसानी से क्रिएट तथा मैनेज कर सकते है। जैसे- Wordpress जो एक बहुत ही प्रचलित CMS है यहां कुछ चीजें फ्री होती है और कुछ चीजों के पैसे चुकाने पड़ते है।

Hosting आपके ब्लॉग को होस्ट करने के लिए होता है अर्थात आपके ब्लॉग पर जो भी कंटेंट रहेगा उसे रखने के लिए जो एक वेब बेस्ड सर्वर चाहिए वही होता है होस्टिंग जिसे ऑनलाइन खरीदने पड़ते है, ये कई कैटेगरी के आते है हालांकि शुरुवात सस्ते वाले से भी कर सकते है।

Domain आपके ब्लॉग का URL Address होता है जैसे - www.example.com अर्थात जिस नाम से आपका ब्लॉग इंटरनेट में जाना जाएगा वो नाम। Domain Name आपको Domain Name Registrar से आपको अपने Niche अर्थात जिस विषय पर आप ब्लॉग बनाने वाले है उसके अनुसार एक डोमेन खरीदना पड़ेगा।

इसके बाद एक ब्लॉग-वेबसाइट बनाकर आप आर्टिकल पब्लिश करना शुरू कर सकते है।

आप चाहे तो बिना कुछ पैसे लगाए भी Google के द्वारा प्रोवाइड की जानेवाली CMS "Blogger" पर बिल्कुल फ्री में एक अच्छी ब्लॉग बना सकते है इसके लिए आपको Hosting या Domain किसी की भी जरूरत नही पड़ेगी क्योंकि इसमें आपके कंटेंट को गूगल अपने सर्वर पर होस्ट करके रखता है और Domain की बात करें तो इसमें आपको Subdomain मिलता है जैसे www.example.blogspot.com जो बिल्कुल फ्री रहता है, हालांकि यदि आप चाहते है की आपके ब्लॉग की यूआरएल में Subdomain ना हो तो आप यहां भी केवल किसी Domain Name Registrar से अपने अनुसार एक Domain लेकर Blogger पर ही Custom Domain लगा सकते है, ऐसा करने से आपके ब्लॉग की यूआरएल प्रॉपर एक डोमेन होगी जो आपने लिया होगा। अपनी ब्लॉग को सुन्दर डिजाईन देने के लिए एक अच्छा सा Custom Template लेकर लगा सकते है जिसके बाद आपकी ब्लॉग सुन्दर दिखने लगेगी, इसके बाद आपका ब्लॉग रेडी हो जाएगा, आगे आप आर्टिकल पब्लिश करना शुरू कर सकते है।
हालांकि यहां आपको कोई विशेष टूल तथा प्लग-इन का ऑप्शन नही मिलता है फिर भी Blogger पर बनाई गयी ब्लॉग बिना कोई इशू के बहुत ही अच्छी दिखती है और सभी आर्टिकल रैंक भी करती है। साथ ही भविष्य में चाहें तो आप इसे किसी दूसरे CMS जैसे Wordpress पर शिफ्ट भी कर सकते है हालांकि इसके लिए आपका Custom Domain होना चाहिए।

ब्लॉगिंग की शुरुआत कैसे करें?

ब्लॉगिंग की शुरुवात आप बड़े ही आसानी से कर सकते है इसके लिए केवल आपको एक ब्लॉग बनाना है, ब्लॉग बनाने के लिए भी आपके पास ऑप्शन है कि यदि आप ब्लॉगिंग को स्टार्ट करने के लिए कुछ पैसे खर्च कर सकते है तो आप Wordpress पर अपना ब्लॉग बना लें, परंतु यदि आप शुरुवात में पैसे खर्च करना नही चाहते है या आपके पास बजट नही हैं तो आप Google के Blogger पर बिल्कुल फ्री में ब्लॉग बना सकते है।

फिर आप जिस भी विषय पर काम करना चाहते है उसपर बेहतरीन से बेहतरीन बिना कहीं से कॉपी किये गूगल की पालिसी मो फॉलो करते हुए अपनी भाषा मे क़्वालिटी कंटेंट लिखना शुरू कर दें।

अगर यदि आप कुछ दिन तक अच्छी से अच्छी आर्टिकल पूरी वर्णन करते हुए लिखते जाएंगे तो आनेवाले कुछ महीनों के बाद आपकी भी कुछ आर्टिकल गूगल में रैंक करने लग जायेगी और आर्गेनिक ट्रैफिक आनी भी शुरू हो जाएगी।

ब्लॉगिंग में किन-किन तरह से पैसे की कमाई होती है?

फ्रेंड्स जब बात आती है कि ब्लॉगिंग में किन-किन तरह से पैसे की कमाई होती है तो मैं बताते चलूं की ब्लॉगिंग में एक नही बल्कि कई तरह से कमाई हो सकती है जिनमे से कुछ महत्वपूर्ण जरिये का यहां हम वर्णन कर रहें है, जैसे…..

विज्ञापन के जरिये:

विज्ञापन ब्लॉगिंग में पैसे कमाने का सबसे महत्वपूर्ण और मुख्य सोर्स होता है, क्योंकि आज बहुत सारे ऐसे कंपनियां है जो ऑनलाइन एडवरटाइजिंग के क्षेत्र में काम कर रही है जो पब्लिशर यानी जो कंटेंट को पब्लिश करता है (ब्लॉगर) को अपने ब्लॉग पर ऑनलाइन विज्ञापन दिखाने की अनुमति देती है जिससे क्लिक तथा इम्प्रेशन के आधार पर कमाई होती है। जैसा कि शायद ज्यादातर लोगों को पता होगा कि गूगल की भी अपनी एक बहुत ही पॉपुलर सर्विस है Google Adsense जो पब्लिशर को अपने ब्लॉग पर विज्ञापन दिखाने की अनुमति देती है, जिससे जुड़कर ज्यादातर ब्लॉगर अपने ब्लॉग को Monetize करके पैसे कमाते है। हालांकि एडसेंस से जुड़ने के लिए इसके पालिसी को फॉलो करते हुए इससे अप्रूवल लेना होता और अप्रूवल मिल जाने के पश्चात उस ब्लॉग पर गूगल का विज्ञापन दिखाया जाता है जिससे क्लिक तथा इम्प्रेशन के आधार पर कमाई होती है। Google Adsense के अलावे भी बहुत सारे एडवरटाइजिंग मीडिया प्लेटफार्म (Ad Network) है जो पब्लिशर को अपने कंटेंट को Monetize करने की अनुमति देती है जैसे- ezoic, Media.net, Tabolla, Infolinks, Propeller Ads इत्यादि, इन सबसे जुड़कर अपने ब्लॉग पर विज्ञापन दिखाकर पैसा कमाया जा सकता है।

एफिलिएट मार्केटिंग के जरिये:

एफिलिएट मार्केटिंग के जरिये ब्लॉगिंग में पैसे कमाने के बहुत ही अच्छे स्कोप होते है क्योंकि आज बहुत सारी कंपनियां या सर्विस प्रोवाइडर या ऑनलाइन शॉपिंग प्लेटफार्म जैसे- Flipkart, Amazon, Meesho etc. अपने प्रोडक्ट या सर्विस को सेल करवाने के लिए Affiliate Scheme देती है, जिससे जुड़ने के पश्चात हर एक प्रोडक्ट का एक Affiliate Link दे दिया जाता है जिसके जरिये प्रोडक्ट को सेल करवाने पर एक निश्चित Commision देती है। इसी का फायदा ब्लॉगिंग में भी वृहत पैमाने पर उठाया जाता है क्योंकि जब किसी ब्लॉग पर ज्यादा से ज्यादा लोग कंटेंट पड़ने के लिहाज से आएंगे और वहीं पर किसी प्रोडक्ट का Affiliate Link अथवा Banner लगा हो तो ज्यादा से ज्यादा चांस है कि कुछ न कुछ सेल हो जाये जिससे आपको कमाई हो, इसी तरह से ब्लॉगिंग में एफिलिएट मार्केटिंग का कांसेप्ट काम करता है।

हालांकि यहां केवल हमने संक्षेप में समझाने का काम किया है की ब्लॉगिंग में एफिलिएट मार्केटिंग से भी पैसे कमाए जाते है, वैसे जो Affiliate Marketing को ही ध्यान में रखकर ब्लॉगिंग करते है उसका ब्लॉगिंग करने का तरीका और कंटेंट थोड़ा अलग होता है जिसमे कमाई का भी स्कोप बहुत ही ज्यादा रहता है।

स्पॉन्सरशिप के जरिये:

कई सारी कंपनियां अपने ब्रांड या प्रोडक्ट का प्रचार-प्रसार कराने के लिए अपने ब्रांड के फ्रेंडली कई सारे ब्लॉग पर अपना रिक्वेस्ट भेजती है जिसको कई ब्लॉगर एक्सेप्ट करके उसके अनुकूल रिव्यु पोस्टिंग लिखती है जिसके बदले में उस ब्लॉगर को स्पॉन्सरशिप के पैसे दिए जाते है।

पेड गेस्ट पोस्टिंग:

जब कोई ब्लॉग काफी पॉपुलर हो जाता है तो उसपे बहुत सारे अन्य ब्लॉगर या डिजिटल मार्केटर अपने या अपने क्लाइंट के ब्लॉग पर बैकलिंक लेने के लिए किसी दूसरे ब्लॉग पर गेस्ट पोस्टिंग करना चाहती है जिसके बदले में वे पैसे चुकाते है, हालांकि गेस्ट पोस्ट एक्सेप्ट करने के पैसे कितने मिलेंगे वह कई सारे पैरामीटर पर निर्भर करता है जैसे- आपकी ब्लॉग पॉपुलर कितनी है, ट्रैफिक कितनी है, ब्लॉग पर मौजूद कंटेंट कैसी है, ब्लॉग किस विषय पर आधारित है, ब्लॉग की लैंग्वेज क्या है, ब्लॉग की DA, PA कितनी है साथ कि गेस्ट पोस्टिंग का प्रपोजल कहाँ से और किस लिए आया है।

पेड बैकलिंक एक्सचेंज करके:

कई सारे ब्लॉगर तथा डिजिटल मार्केटर अपने या अपने क्लाइंट के ब्लॉग की रीच तथा रैंकिंग बढ़ाने के लिए या SEO के उद्देश्य से पुराने तथा पॉपुलर ब्लॉग से बैकलिंक लेती है जिसके बदले में वे पैसे चुकाते है।

क्या ब्लॉगिंग को एक कैरियर के रूप में चुन सकते है?

अगर बात करें कि क्या ब्लॉगिंग को एक कैरियर के रूप में चुन सकते हैं तो इसके लिए मैं अपनी तरफ से बताना चाहूंगा कि बेशक ब्लॉगिंग में कुछ भी कुछ भी स्कोप हो पर शुरुवात बहुत ही कठिनाई भरा और रिस्की होता है, इसलिए इसको सीधे ही कैरियर के रूप में चुन लेना हमारे समझ से सही नही होगा।

हमारी माने तो इसकी शुरुआत हमे अपने लक्ष्य प्राप्त करने के लिए मेहनत करने के साथ-साथ एक पैशन के तौर पर हम पार्ट-टाइम के रूप में करना चाहिए और आगे चलकर जब इससे इनकम होने लगे तो एक साइड इनकम सोर्स के रूप में इसे कंटिन्यू रखना चाहिए। ब्लॉगिंग उन लोगों के लिए तो और भी अच्छा होगा जो Housewife है, Student है या Handicapped है (जो फिजिकल कार्य करने में असमर्थ है) वे इसे अपने समय अनुसार करके कुछ इनकम भी कर सकते है।

ये बात सही है कि कुछ लोग जब ब्लॉगिंग में अच्छी तरह सक्सेस हो जाते है तो फुल टाइम ब्लॉगिंग करने लगते है, परंतु ब्लॉगिंग में भी पूरी तरह सक्सेस होने में समय लगता है साथ ही कड़ी मेहनत भी करना पड़ता है, इन सब के साथ-साथ ब्लॉगिंग में धैर्य रखना भी बहुत ही जरूरी होता है क्योंकि ये भी पैसे छापने की कोई मशीन नही है बल्कि ये भी एक कार्य है जिसमे मेहनत करने के बाद ही लोग सफल हो पाता है।

इन्हें भी देखें:→

Conclusion (निष्कर्ष):
फ्रेंड्स हमें उम्मीद है की हमारे द्वारा ब्लॉगिंग पर लिखी गयी इस आर्टिकल के माध्यम से आपको बड़े ही आसानी से पता चल गया होगा की “ब्लॉगिंग क्या होता है”, फिर भी किसी प्रकार की कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट के माध्यम से पूछ सकते है साथ ही यह आर्टिकल आपको कैसी लगी इसकी फीडबैक कमेंट के माध्यम से जरुर दें, आपकी फीडबैक हमारे लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि आपकी फीडबैक के आधार पर ही हम यह तय कर पाते है की हमारे द्वारा लिखी जा रही आर्टिकल की गुणवत्ता कैसी है। अगर यदि यह आर्टिकल आपको पसंद आई हो तो अपने फ्रेंड सर्किल में शेयर जरुर करें. इसी तरह की और भी आर्टिकल पढ़ते रहने के लिए Comtechinhindi.IN से जुड़े रहें। धन्यवाद !

Post a Comment

2 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.
  1. Hi Ankit Sir aapne blogging ke baare me bahot achche se samjhaaya hai, maine v ek blog banaya hi pr marketing karnaa nahi ata, par ab sub clear ho gaya.... thank you

    ReplyDelete

Top Post Ad

Below Post Ad

Comtechinhindi.IN से जुड़े रहने के लिए नीचे दिए गए "JOIN" बटन को दबाकर टेलीग्राम चैनल को ज्वाइन करें !

telegram join button